हाल- ए – दिल

खामोशी है लबों पे मग़र बातें नज़र में हैं,

थमी सासें,बेचैन धड़कने दिल के घर में हैं।।

कुछ होने को है शायद आज इशारा हुआ है,

अरमान सारे s@nam अपने  सफ़र में हैं।।